Thursday, 19 June 2014

समूण - कुछ हमारी कुछ तुम्हारी


समूण हँसी का
समूण खुशी का
समूण प्यार का
समूण दया का
समूण शिक्षा का
समूण सहयोग का
समूण मानवता का
समूण स्वास्थ्य का
समूण परोपकारिता का
............................
हमने तुमको दी थी खुशी जो
तुमने हमको दी थी हँसी ओ 
यादेँ उनकी रह जाती है......। 
समूण वही कहलाती है ॥ 

सर्वाधिकार सुरक्षित @ विनोद जेठुडी