Tuesday, 2 August 2011

सरस सुन्दर शुशिल सजनी

सरल सरस स्वर्ण सज्जित....
सुन्दर शुशिल सप्रेम समाहित...
सुन्दर सपने सह्रदय सकेन्द्रित....
सजनी सजन संग सम्पूर्ण समर्पित....

सर्वाधिकार सुरक्षित @ विनोद जेठुडी, 9 फ़रवरी 2011 @ 07:10 AM